जम्मू-कश्मीर बैंक घोटाला : एक्शन में आई ED की ताबड़तोड़ छापेमारी, यहां मचा हड़कंप

2020-11-21 17:14:40

नई दिल्लीः प्रवर्तन निदेशालय ( Directorate of Enforcement) ने जम्मू कश्मीर बैंक में संदिग्ध लेनदेन से जुड़ी धन शोधन (Money Laundering) जांच के सिलसिले में कश्मीर में शनिवार को कई स्थानों पर छापेमारी की. केन्द्रीय जांच एजेंसी ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (Prevention of Money Laundering Act) के तहत श्रीनगर में 7 और अनतंनाग जिले में एक स्थान पर छापेमारी की. 

इनके घर पर हुई छापेमारी
ईडी (ED) ने जानकारी दी है कि मोहम्मद इब्राहिम डार, मुर्तजा एंटरप्राइजेज, आजाद एग्रो ट्रेडर्स, एम एंड एम कॉटेज इंडस्ट्रीज और मोहम्मद सुल्तान तेली के यहां छापेमारी की गई है. ये कारोबारी और कृषि-आधारित उद्योगों, सिविल निर्माण और रियल एस्टेट व्यवसायों में शामिल  हैं. ताबड़तोड़ छापेमारी के बाद श्रीनगर में अनंतनाग के बड़े कारोबारियों में हड़कंप मच गया.

ये भी पढ़ें-दिसंबर से और तेज होगी ट्रेनों की रफ्तार, ये है Indian Railways का खास प्लान

ईडी को मिले मनीलॉड्रिंग के सबूत
जांच एंजेसी ने बताया कि ”छापेमारी के दौरान धनशोधन के सबूत मिले है क्योंकि बैंक खातों का इस्तेमाल संदिग्ध लेनदेन के लिए किया गया है.” केंद्रीय जांच एजेंसी ने कहा कि ”जांच में अब तक सामने आया है कि जेएंडके बैंक में खोले गए इन बैंक खातों में से कई लेनदेन वास्तविक नहीं थे और इन खातों का उपयोग धनशोधन के उद्देश्य से किया गया था.”

प्राइवेट पार्टियों के फायदे के लिए बैंक खातों का इस्तेमाल
ED के अधिकारियों के मुतबिक, बैंक खातों का इस्तेमाल नौकरशाहों और कुछ प्राइवेट पार्टियों को फायदा देने के लिए पहुंचाया गया था. कुछ बैंक अधिकारी नौकरशाहों से मिले हुए थे और उन्होंने पैसों के लेनदेन के लिए रखे गए नियमों का पालन नहीं किया. ईडी की जांच में पाया गया है कि जम्मू कश्मीर बैंक के साथ अन्य कुछ बैंकों में लेनदेन का तरीका जायज नहीं था और लॉर्डिंग के लिए ही इनका इस्तेमाल किया गया. करोड़ों के इस लेनदेन के मामले को लेकर तमाम लोगों के ईडी ने बयान दर्ज किए हैं. फिलहाल व्यापारियों के घरों में छापेमारी के दौरान बरामद किए दस्तावेजों की जांच हो रही है. 

गौरतलब है कि इस बैंक घोटाला मामले को लेकर एजेंसी ने पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला को नोटिस भेजने के बाद पूछताछ कर चुकी है. 

LIVE TV

 

 




Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *